Papers laid on the table



Download 1.86 Mb.
Page9/16
Date09.08.2018
Size1.86 Mb.
#58444
1   ...   5   6   7   8   9   10   11   12   ...   16
श्री अविनाश राय खन्ना (पंजाब) : सर, अभी माननीय नाच्चीयप्पन साहब कह रहे थे कि लिटिगेशन बहुत लंबा हो जाता है और बहुत से मुकदमे पेंडिंग रहते हैं। माननीय मंत्री जी, मैं न तो अपने राज्य के लिए कुछ मांगने के लिए खड़ा हुआ हूं, न किसी और के लिए कुछ मांगने के लिए खड़ा हुआ हूं, लेकिन जो सिस्टम है, उसको अगर हम ठीक ढंग से चला लें, तो एक लिटिगेंट को बहुत बड़ी रिलीफ मिल सकती है, इसलिए मैं आपको कुछ सजेशन देने के लिए खड़ा हुआ हूं।

सर, मैं खुद पेशे से वकील हूं। ठीक है कि मैंने हाई कोर्ट या सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस नहीं की, लेकिन जहां मैंने प्रैक्टिस की, तो जो-जो lacunae, जो-जो difficulties मैंने आम आदमी के लिए देखी हैं, मैं उनको आपके साथ शेयर करना चाहता हूं। जैसे नाच्चीयप्पन जी ने अभी कहा कि अगर हम अपने ऑफिसर्स को responsible नहीं बनाएंगे, तो कोई भी जस्टिस जहां मिलना चाहिए, वहां न मिलकर अदालतों में मिलेगा, क्योंकि Section 80 CPC के रूप में एक बहुत बड़ी प्रोटेक्शन स्टेट को, सरकार को दी गई है। किसी ने सरकार से कोई रिलीफ लेना है, तो उसको दो महीने का नोटिस देना पड़ता है। 1984 में जब मैंने प्रैक्टिस शुरू की, तो मेरे फादर मुझे कहते थे कि आज से एक साल पहले अगर Section 80 का नोटिस चला जाता था, तो सरकार हिल जाती थी, लेकिन आज क्या हो गया है? यह तो मैं 1984 की बात कर रहा हूं, लेकिन आज नोटिस दे दो, तो वह नोटिस रद्दी की टोकरी में चला जाता है, ultimately litigation में उसको आना पड़ता है। सर, मैं आपसे कहना चाहता हूं कि आप अगर आज से ही डायरेक्टिव जारी कर दो कि अगर किसी ने Section 80 का नोटिस दिया है और उसको जो रिलीफ मिलना चाहिए, वह नहीं मिला और उसके कारण लिटिगेशन शुरू हुआ है, तो अगर लिटिगेशन के बाद उसको रिलीफ मिलता है, तो उसका जितना खर्च आएगा, वह उस अफसर को देना पड़ेगा, जिसके कारण सरकार को लिटिगेशन में जाना पड़ा। तो मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि सेंटर और स्टेट के बीच हमारा 50 परसेंट से ज्यादा लिटिगेशन खत्म हो जाएगा।



दूसरी बात मैं एक एक्ज़ाम्पल से शुरू करना चाहता हूं। मेरे शहर के पास एक गांव है - बीड़ा, उसमें 800 रुपए के एक लॉग के लिए झगड़ा हुआ, वुड लॉग पर। झगड़ा हुआ और करते-करते 17 केस हो गए। एक तरफ मैं वकील था, दूसरी तरफ कोई दूसरा था। उस समय मैं एमएलए भी था और मैं प्रैक्टिस भी करता था। तो जज साहब ने कहा कि आप एमएलए हो, इनका कॉम्प्रोमाइज़ क्यों नहीं करा देते? मैंने कहा कि कॉम्प्रोमाइज़ नहीं होगा। आप हम दोनों वकीलों को बाहर रखिए और इन पर एक दबाव डालिए कि अगर आपने कॉम्प्रोमाइज़ नहीं किया, तो मैं सबको अंदर कर दूंगा। ऐसा करने पर दूसरी पार्टी मेरे पास आई कि खन्ना साहब, आप हमारा मुकदमा खत्म करा दीजिए। मैं एक दिन दोनों पार्टियों के साथ बैठा और कॉम्प्रोमाइज़ के कारण 17 मुकदमे खत्म हो गए। तो कोर्ट कॉम्प्रोमाइज़ क्यों नहीं कराता? उसका एक कारण है। सर, जो सजेशन मैं आपको देने वाला हूं, उसमें आपको न तो सैलेरी ज्यादा देनी है, न ही आपको कोई ज्यादा इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलप करना है। जो existing इन्फ्रास्ट्रक्चर है, उसमें अगर आप एक केस... जो वकील हैं, वे जानते हैं कि जज जब एक केस डिसाइड करता है, पांच साल या छ: साल बाद, तो डिसीज़न देने के उसको पांच युनिट मिलते हैं। वह तीन-चार साल मेहनत करता है, तो उसको पांच युनिट मिलते हैं। तो आप ऐसा कीजिए कि अगर कोई जज कॉम्प्रोमाइज़ करा देता है, तो उसको सात युनिट दे दीजिए। तो उसकी न तो कॉम्प्रोमाइज़ की कोई अपील होगी। वह कम से कम हाई कोर्ट तक उस लिटिगेशन को खत्म कर देगा। उसमें सरकार का कुछ बिगड़ने वाला नहीं है, तो सात युनिट देने से वह जज effort भी करेगा और इंटरेस्ट भी लेगा, तो लिटिगेंट को भी उसका फायदा होगा।

(2R/SC-KSK पर जारी)

sc-ksk/3.15/2r

श्री अविनाश राय खन्ना (क्रमागत) : दूसरी बात मैं आपसे यह कहना चाहता हूं कि अदालतों के बारे में हम यह सोचते हैं कि ये ‘temples of justice’ हैं, लेकिन ‘temples of justice’ में लोग एक आशा के साथ, एक होप के साथ जाते हैं, किन्तु वहां पर उनको न्याय नहीं मिलता। उसका कारण क्या है? कारण यह है कि वहां का जो सिस्टम है, वह सिस्टम, जब हम लॉ पास करते हैं, वह litigant के फेवर में है या litigation बढ़ाने के लिए है, उस समय यह बात भी हमें सोचनी चाहिए। सर, मैं आपको एक उदाहरण देता हूं कि कोर्ट में होता क्या है। एक बार एक लम्बरदार जी कोर्ट में पेश हुए तो जिस तरह से रूटीन में हम कहते हैं कि कसम खाओ, जो कहोगे, सच कहोगे – उस समय जज साहब अपना काम कर रहे थे, हम अपना एविडेंस करवा रहे थे – तो उस लम्बरदार ने कहा कि मुझे यह बताइए कि मैं सच कौन सा बोलूं? मैं सच पंचायत का बोलूं, पुलिस स्टेशन वाला बोलूं या अदालत वाला सच बोलूं? उस समय सबको curiosity हो गयी कि यह क्या कह रहा है। अदालत में सन्नाटा सा छा गया। उस समय उसने differentiate किया कि सच कौन सा बोलना है। उसने कहा कि जब हम पंचायत में बोलते हैं तो हम पूरा सच बोलते हैं, जब पुलिस स्टेशन में बोलते हैं तो आधा सत्य और आधा असत्य बोलते हैं और जब हम आपके यहां अदालत में आते हैं तो हम पूरा असत्य बोलते हैं, इसलिए आप बताइए कि सच कौन सा बोलना है? इसलिए मैं निवेदन करना चाहूंगा कि हमारे ज्युडिशियल अफसर, मैं उनके ऊपर कोई बात नहीं कहना चाहता, उनका माइंडसेट कैसा है। इतने प्रोविज़ंस बने हुए हैं, जिनके कारण हम frivolous litigation को कम कर सकते हैं। मैंने तो अपनी 15 साल की प्रेक्टिस में कभी नहीं देखा कि किसी कोर्ट ने ऑर्डर किया हो कि इनके खिलाफ 182 लगा दो - अगर कोई केस असत्य है, असत्य कम्पलेंट है – कभी किसी ने नहीं किया। फैसला किया, अपने युनिट डाले और बात खत्म हो गयी। क्या कभी किसी कोर्ट ने perjury के केस के बारे में रिकमेंड किया? हम लोग लॉ वाले समझते हैं। अदालत में डाक्युमेंट पेश हुआ, अदालत में असत्य बोला, क्या अदालत ने रिकमेंड किया कि इसने असत्य बोला है, इसके ऊपर perjury का केस डाल दो? अगर existing law को हम इम्प्लीमेंट करवाने के लिए कामयाब हो जाते हैं तो मैं समझता हूं कि बहुत सारी लिटीगेशंस को कम करने में हम कामयाब हो सकते हैं। सर, मुझे सिस्टम में रहते हुए Human Rights Commission में काम करने का मौका मिला। दस महीने मैंने वहां पर काम किया। वहां पर एक जनरल रूटीन थी कि कमीशन जब डेट देता था तो दो महीने की डेट देता था और पहली डेट पर अफसर आकर कहता था कि रिपोर्ट तैयार नहीं है, हमें कुछ और टाइम दिया जाए तो कमीशन में रूटीन थी कि दो महीने और दिए जाते थे। वह फिर आता था और कहता था कि थोड़ी सी फार्मेलिटी रहती है, दो महीने का टाइम और दे दीजिए। इस तरह से 6 महीने तक कमीशन में रिपोर्ट नहीं आती थी। मैंने एक प्रयास किया। मैंने जो प्रयास किया, वह विदइन लॉ किया। माननीय लॉ मिनिस्टर साहब, मैं यह बात इसलिए कह रहा हूं कि जब भी आपकी जजों की कॉन्फ्रेंस होती है, उस वक्त उनको थोड़ा सा कहिए कि वे इस लॉ को समझते हुए within law जो प्रोविज़न है, उसको फालो करते हुए बहुत बड़ा न्याय कर सकते हैं। मेरे पास जब पहला केस आया तो उसने वही रिक्वेस्ट की कि सर, दो महीने का टाइम दे दीजिए, एसएसपी की रिक्वेस्ट है। मैंने अपने स्टेनो को बुलाया। मैंने कहा कि आपको दो नहीं, तीन महीने का टाइम देते हैं, लेकिन जब तक यह रिपोर्ट नहीं आएगी, तब तक आपकी सेलरी मैं attach करता हूं। वह एकदम कहने लगा कि नहीं सर, मैं कल ही लेकर आता हूं। मैंने कहा, नहीं, अब ऑर्डर विदड्रॉ नहीं होगा, मैं आपकी सेलरी attach करता हूं, जब आप रिपोर्ट लाएंगे, मैं आपकी सेलरी रिलीज़ कर दूंगा। मैंने दस महीने वहां पर काम किया, 4,300 केसेज़ को डिसाइड किया, मैंने अलग-अलग जगह पर इंस्पेक्शन करके 30 रिपोर्ट्स सबमिट कीं और मेरे कोर्ट में, जब भी मैं लिखता था, 15 दिन में रिपोर्ट आ जाती थी। सर, मैं यह कहना चाहता हूं कि जो लोग सीट पर बैठे हैं, अगर वे इस सिस्टम को पूरा समझने के लिए सेंसेटाइज़ हो जाएं, अगर वे समझें कि हम न्याय देने के लिए हैं, हम गरीब को देखें, किसान को देखें कि वह हमसे अपेक्षा रखकर आया है कि हम उसको न्याय देंगे, तो सिस्टम में रहते हुए हम बहुत कुछ कर सकते हैं। सर, मैं बहुत दिन से सर्च कर रहा था। आपमें से भी काफी लोग एमएलए, सरपंच, ब्लॉक समिति मेंबर आदि पदों से उठकर आए होंगे। बहुत से लोगों को पुलिस स्टेशन में जाने का मौका मिलता होगा। जब हम पहले पुलिस स्टेशन में जाते हैं तो क्या देखते हैं कि एक साइकिल से लेकर ट्रक तक, वहां पर करोड़ों की प्रॉपर्टी पड़ी हुई है।

(2एस-जीएस पर जारी)

GS-GSP/2S/3.20

श्री अविनाश राय खन्ना (क्रमागत): अगर पुलिस वाले से पूछते हैं कि ये क्या है, तो वह कहता है कि यह किसी ने सुपुर्दगी पर नहीं ली। इसका कारण यह है कि वहां पर पड़ी हुई प्रापर्टी की न तो पुलिस को चिंता है, लेने वाला अगर जाएगा, वकील करेगा, सिक्योरिटी देगा, इसका बहुत लम्बा प्रोसिज़र है।

उपसभाध्यक्ष महोदय, 2008 में रिट पेटिशन नम्बर 14 दायर हुई। उस कोर्ट ने कितना अच्छा लिखा है, माननीय मंत्री जी, मैं चाहूंगा कि अगर सभी स्टेट्स और यहां पर सुप्रीम कोर्ट ने सभी डिविजनल कमिश्नर, एसएसपी और स्टेट को डायरेक्ट किया है, मैं उसे कोट कर रहा हूं, जो उन्होंने verdict लिखा है, वह बहुत balanced है और जो आम आदमी से संबंधित है। मैं उसको कोट कर रहा हूं, "It is a matter of common knowledge that as and when vehicles are seized and kept in various police stations, not only do they occupy substantial space in the police stations but upon being kept in open, are also prone to fast natural decay on account of weather conditions. Even a good maintained vehicle loses its road worthiness if it is kept stationary in the police station for more than fifteen days. Apart from the above, it is also a matter of common knowledge that several valuable and costly parts of the said vehicles are either stolen or are cannibalized so that the vehicle becomes unworthy of being driven on road." ये कॉमन बात है।



"To avoid all this, apart from the aforesaid directions issued hereby above, we direct that all the State Governments/Union Territories/Director General of Police shall ensure macro implementation of the statutory provisions and further direct that the activities of each and every police station, especially with regard to disposal of the seized vehicle be taken care of by the Inspector General of Police of the division / Commissioner of Police concerned of the cities / Superintendent of Police concerned of the district concerned." एक बहुत बड़ी बात जो उन्होंने लिखी है -

" In case any non-implementation is reported either by the petitioner or by any of the aggrieved party, then, needless to say, we would be constrained to take serious view of the matter against an erring officer, who have to be dealt with iron hands."
आज तक करोड़ों रुपये की प्रापर्टी पुलिस स्टेशनों में पड़ी है। मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि इसका डिस्पोज़ल करने से स्टेट्स को भी बहुत बड़ा फायदा होगा, अगर इसका auction किया जाए, जिस सामान को कोई लेने नहीं आता है, उसके लिए कानून बनाया जाए। इसलिए मैं छोटी-छोटी बातों को बताना चाहता हूं कि आज निचले स्तर पर कितना नुकसान आम आदमी का हो रहा है।

सर, मैं एक बात और आपके ध्यान में लाना चाहता हूं । अभी नाच्चीयप्पन जी, जब बोल रहे थे कि हमने बहुत से ट्रिब्युनल और कमीशन बना रखे हैं। क्या इनका कोई कोआर्डिनेशन, कोआपरेशन है? मैं आपको छोटा-सा उदाहरण देता हूं। जब मैं कमीशन में था, तो मैंने एक जेल का इन्सपैक्शन किया, तो वहां पर बिहार का एक ड्राइवर था, मैंने उससे पूछा कि कितने दिनों से जेल में हो, तो उसने बताया कि दो साल से ऊपर हो गए। जब पूछा कि केस कौन-सा है, तो बताया कि 304 () का है और जिसकी मैक्सिमम पनिशमेंट दो साल है। मेरा मानना है कि अगर जेलों की, पुलिस स्टेशनों की इन्सपैक्शन ह्यूमैन राइट्स कमीशन का मेम्बर, हाई कोर्ट का जज और जेलों को देखने वाले ए.डी.जी. (पी) हैं, ये सभी इकट्ठा करें, तो बहुत सा जस्टिस हम वहां दे सकते हैं। जब मैंने जेल अथॉरिटी से रिपोर्ट मांगी कि उसे दो साल से ऊपर जेल में क्यों रखा हुआ है, तो जब रिपोर्ट आई, उसमें बड़ी खुशी से बताया कि हमने उसे रिलीज़ कर दिया, लेकिन वह दो साल से अधिक जेल में कैसे रहा, जबकि मैक्सिमम सजा दो साल की है? ऐसे बहुत से केस आपको मिलेंगे।



मैं एक और सजेशन माननीय मंत्री जी को देना चाहता हूं। गवर्नमेंट ने बहुत कोशिश की है कि जब कोई एक्सीडेंट होता है, इसके लिए बहुत ऐड्स आती हैं, इसके लिए एनजीओज़ और बहुत से लोग काम भी करते हैं कि तुंरत ही इंजर्ड व्यक्ति को शिफ्ट किया जाए, लेकिन इसमें हम कामयाब नहीं हो पा रहे हैं। अगर टाइमली इंजर्ड व्यक्ति को शिफ्ट कर दिया जाए, तो कम से कम दस या पन्द्रह परसेंट लोगों का जीवन बचा सकते हैं। सर, the Evolution of National Emergency Management Mission है, इनकी एक रिपोर्ट है। इन्होंने लिखा है कि जो एम्बुलेंस 108 आई है, उसके कारण कम से 33 मिलियन जो लाइव्ज़ हैं, उनको टाइमली ऐड देकर सेव किया है।

(ASC/2T पर जारी)
ASC-SK/3.25/2T

श्री अविनाश राय खन्ना (क्रमागत) : अब यदि एक्सिडेंट होता है, तो Section 304 (a) में दो साल की सज़ा है। जो बात मैं कहने वाला हूं, यह बात मेरे मन में क्यों आई, यह इसलिए आई कि मेरा एक दोस्त कनाडा से आया था। उसने यहां आकर एक BMW गाड़ी ले ली। वह लुधियाना में कहीं जा रहा था और वह स्वयं ही अपनी कार ड्राइव कर रहा था, तो अचानक कुछ बच्चे पतंग का पीछा करते हुए भाग रहे थे। उनमें से एक बच्चा भागते-भागते उस गाड़ी से टकरा गया। मेरे दोस्त ने गाड़ी रोकी और बच्चे को अपनी कार में डालकर इलाज के लिए दयानन्द मेडिकल कॉलेज में ले गया। वहां पर जाते ही डाक्टर ने कहा कि पैसे जमा कराओ। उसने पैसे भी जमा करा दिए। इसके बाद उसने डाक्टर से पूछा कि क्या अब मैं जा सकता हूं, तो डाक्टर ने कहा नहीं, अब हम पुलिस बुलाएंगे। कुछ देर बाद पुलिस आ गई, तो पुलिस ने कहा कि जब भी इस बच्चे के कोई parents आएंगे, तो आपके ऊपर केस रजिस्टर होगा। यदि वे कहेंगे, तो हम आपको छोड़ देंगे, लेकिन तब तक आपको इंतजार करना पड़ेगा। उसका सारा दिन इसी काम में चला गया। वह मुझ से आकर कहने लगा कि मैंने क्या गलती की है? मैंने यह गलती की कि मैंने उस injured को hospital में shift किया। अगर मैं भी वहां से भाग आता, तो मुझसे कौन पूछता? अगर कोई मुझसे पूछता भी तो कम से कम जो मुझसे पूछने के बाद होना था, वह सब तो मेरे साथ पहले ही हो गया। इसलिए सर, मैं आपसे रिक्वेस्ट करूंगा कि आप Section 304 (a) में एक अमेंडमेंट कीजिए, जिससे हम बहुत सी life save कर सकते हैं। अगर कोई accident करने वाला व्यक्ति किसी injured को hospital में shift करता है, उसको बचाने में मदद करता है, तो उसको कम से कम वार्निंग देकर छोड़ दिया जाए, ताकि हम उस injured की जान बचा पाएं। इसमें कोई बहुत लम्बा-चौड़ा काम नहीं है। इससे हम बहुत से लोगों की जान भी बचा सकते हैं।

सर, मेरी एक रिक्वेस्ट यह है कि कानून बनाते समय सोशल ऑस्पेक्ट्स का ध्यान रखा जाए। हमने यहां बाद में जितने भी अमेंडमेंट्स किए, जैसे IPC और एविडेंस एक्ट में किए, हम उनमें बहुत ज्यादा अमेंडमेंट्स नहीं कर पाए। क्योंकि अंग्रेजों ने इस ढंग से बनाया था कि उसमें स्कोप कम था, लेकिन जितने भी हमने अमेंडमेंट्स किए हैं with the passage of time हमने देखा कि उस कानून का मिसयूज़ हुआ है, जैसे 498(a) है। लॉ कमीशन को भी एक रेकमेंडेशन देनी पड़ी कि अब इसका मिसयूज़ होना शुरू हो गया है। सर, जहां हम ऐसा कोई एनेक्ट करते हैं, तो सोशल ऑस्पेक्ट्स को देखने की बहुत जरूरत है।

सर, मैं लास्ट में एक रिक्वेस्ट करते हुए, अपनी बात समाप्त करूंगा। मैं यह कहना चाहूंगा कि Advocates लोगों को न्याय दिलवाने में बहुत help करते हैं। यह जरूरी नहीं कि सभी Advocates अमीर हों। वे काम करते-करते जब एक स्टेज़ पर आ जाते हैं, तो ऑफ्टर रिटायरमेंट उनकी सोशल सिक्योरिटी का भी ध्यान रखा जाए। नए-नए Advocates को ओथ कमिश्नर की नौकरी का चांस मिलता है, वैसे तो Advocates रिटायर नहीं होते हैं, लेकिन एक स्टेज पर बहुत से Advocates काम नहीं कर पाते हैं। उनकी सोशल सिक्योरिटी के बारे में यदि कुछ कर सकते हैं, तो वह अवश्य करें। बाकी जो लोकल लैंग्वेजेज़ हैं, उनके बारे में मेरे कहने का अर्थ यह है कि कोर्ट की लैंग्वेज लोकल लैंग्वेज होनी चाहिए। इसका कारण यह कि जब कोई गांव से आने वाला व्यक्ति एविडेंस देता है, तो वह जो लैंग्वेज यूज़ करता है, वह साधारण लैंग्वेज़ यूज़ करता है। जब उसका ट्रांसलेशन होता है, तो कई बार वह ट्रांसलेशन उतना अच्छा नहीं हो पाता है। जो उसकी बोलने वाली इंटेंशन है, उसका और ट्रांसलेशन का आपस में समन्वय मुश्किल हो जाता है। मुझे याद है कि सुप्रीम कोर्ट में हमारा ट्रेनिंग का एक पार्ट था। हम सुप्रीम कोर्ट में विजिट करने गए। सुप्रीम कोर्ट में जज़ के सामने विटनेस ने कहा कि उसको फावड़े से मारा। फावड़ा क्या होता है, यह न तो वकील समझा पा रहा था और न ही जज़ साहब को समझ में आ रहा था, क्योंकि वह लोकल लैंग्वेज में एविडेंस दिया गया था। इसलिए इस बात को समझते हुए हर स्टेट में लोकल लैंग्वेज़ को importance दी जाए। सर, मैं अपनी बात समाप्त करते हुए यह निवेदन करूंगा कि Section 304 (a) में आपको अमेंडमेंट करना होगा। मंत्री जी, मैं आप से रिक्वेस्ट कर रहा हूं कि उसके नोटिस के आने के बाद अगर Section 80 कोई रिलीफ नहीं देता है, तो कोर्ट में लिटिगेशन में रिलीफ मिलता है, तो सारा खर्चा उस आफिसर को डालना पड़ेगा। जो मैंने यूनिट कहे हैं, कम्प्रोमाइज़ करवाने वाले एक जज़ को यूनिट दिए जाएं और Advocates के बारे में भी उनको सोशल सिक्योरिटी देने का प्रयास करें। आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

(समाप्त)



(2U/AKG पर आगे)
AKG-BHS/2U/3.30

उपसभाध्यक्ष (श्री वी.पी. सिंह बदनौर) : धन्यवाद। प्रो. राम गोपाल यादव। वैसे तो आपके पास 9 मिनट हैं, लेकिन आप 15 मिनट में तो खत्म कर देंगे न? मैं पहले से कह दूँ, नहीं तो फिर नरेश जी आपके लिए खड़े हो जाएँगे।

प्रो. राम गोपाल यादव (उत्तर प्रदेश) : सर, जब वकील लोग बोलते हैं, तो वे कानून और विधि मंत्रालय के बारे में परस्पर अपने तरीके से बोलते हैं।

उपसभाध्यक्ष (श्री वी.पी. सिंह बदनौर) : अभी वकील कितनी अच्छी तरह से बोले हैं।

प्रो. राम गोपाल यादव : अब आप देखिए कि यह जो मंत्रालय है, मैं बोलना शुरू कर रहा हूँ, इसमें कानून और न्याय, ये दो चीजें हैं। आम आदमी के लिए यह आवश्यक है कि कानून बहुत सरल हो और न्याय सस्ता हो। माननीय मंत्री जी, इस प्रिंसिपल को ध्यान में रखते हुए आप कभी विचार करें कि क्या हिन्दुस्तान में ये दोनों चीजें हैं? क्या कानून इतना सरल है? स्थिति यह हो गई कि जब हम लोग पॉलिटिकल सायंस पढ़ते थे, तो यह सवाल पूछा जाने लगा कि भारत का संविधान वकीलों का स्वर्ग है। उसकी एक-एक धारा का लोग इतना इंटरप्रेटेशन करते हैं कि अगर दस लोग एक धारा का इंटरप्रेटेशन करेंगे, तो दस तरीके से करेंगे। नतीजा यह होता है कि न्यायालय में मामला जाता है, विलम्ब होता है और लोगों के लिए न्याय पाना इतना महँगा हो जाता है कि सुप्रीम कोर्ट में तो सुनील दत्त जी को संजय के केस में अपनी कोठी बेचनी पड़ी, मुम्बई और महाराष्ट्र के सारे लोग जानते हैं। एक-एक पेशी के लिए, दो मिनट के लिए सुप्रीम कोर्ट के एक वकील जाते हैं और दो लाख से लेकर पंद्रह-बीस लाख रुपए तक लेते हैं। यह स्थिति है। जब न न्याय सस्ता है और न कानून सरल है, तो लोगों के लिए यह जो सबसे महत्वपूर्ण मंत्रालय है, यह लोगों को राहत नहीं दे पा रहा है। नतीजा यह है कि हिन्दुस्तान में लोअर कोर्ट्स से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक बड़े पैमाने पर लगभग तीन करोड़ के आसपास मुकदमे लम्बित हैं। आप जजेज़ की नियुक्तियाँ नहीं कर पा रहे हैं। इलाहाबाद हाई कोर्ट में नियुक्तियाँ होने के बाद भी, मिश्रा जी बेहतर जानते होंगे, 90 वैकेंसीज़ हैं। आप एक तरफ कोशिश करते हैं कि लोगों को न्याय जल्दी मिले, लेकिन न्यायाधीशों की नियुक्तियाँ नहीं हो पातीं। नियुक्तियों में भी यह दुनिया का अकेला ऐसा अभागा देश है, जिसमें स्वयं जज ही जज की नियुक्ति करते हैं। हालाँकि मैं गवर्नमेंट को धन्यवाद देना चाहूँगा कि उसने इसमें संशोधन किया है, पता नहीं सुप्रीम कोर्ट इसको वैलिड रखे या न रखे, लेकिन यहाँ जज, जज की नियुक्ति करते हैं। सारी दुनिया में एक्जीक्यूटिव जज की नियुक्ति करता है, लेकिन यहाँ जजेज़ स्वयं अपनी नियुक्तियाँ करते हैं। सब अपने लिए अपने तरीके की व्यवस्था करते हैं। इसके लिए एक्जीक्यूटिव को बहुत मजबूत होना पड़ेगा। एक्जीक्यूटिव को, न्यायपालिका को, सबको बराबर अधिकार हैं, अपने-अपने क्षेत्र के अधिकार हैं। आप कानून का पालन कराएँगे, न्यायालय कानून की व्याख्या करेगा, कानून तोड़ने वाले के लिए दंड निर्धारित करेगा, हम यहाँ बैठ कर कानून बनाएँगे, लेकिन स्थिति यह हो गई है कि अब चाहे गवर्नमेंट की पिछले 10-15 साल से कमजोरी रही हो, सुप्रीम कोर्ट से आदेश होने लगा है कि आप कानून भी किस तरह का बनाएँगे।

(2डब्ल्यू/एससीएच पर जारी)

SCH-YSR/3.35/2W

प्रो. राम गोपाल यादव (क्रमागत) : क्या यह व्यवस्थापिका या लेजिस्लेचर के अधिकार क्षेत्र में एन्क्रोचमेंट नहीं है? अभी-अभी हमारे माननीय मंत्री जी ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने यह पूछा कि इसे कितने दिनों में बनाएंगे। यह पूछना सुप्रीम कोर्ट का बिज़नेस नहीं है, यह सुप्रीम कोर्ट का काम नहीं है। सुप्रीम कोर्ट का काम तो यह है कि अगर हम कानून बनाएं, तो वह उसका ज्यूडिशियल रिव्यू करे, वह उसको गलत घोषित कर दे, असंवैधानिक घोषित कर दे, अल्ट्रा वायरस घोषित कर दे। संसद कानून बनाए या न बनाए अथवा किस तरह का कानून बनाए, कोई न्यायालय संसद को इस तरह का निर्देश नहीं दे सकता है, लेकिन हमारे यहां यह हो रहा है। इससे कई बार स्थिति ऐसी हो जाती है, जैसे अभी जब National Judicial Appointments Commission के लिए जज का नाम मांगा गया, तो चीफ जस्टिस ने इसके लिए मना कर दिया। जब न्यायपालिका और एग्ज़ीक्यूटिव में झगड़े की नौबत आ जाती है, तो कई बार दिक्कतें पैदा हो जाती हैं।

महोदय, मैं आपको याद दिलाना चाहूंगा, जब अमरीका में 1931 में बहुत बड़ी मन्दी थी, उस समय 1932 में रूज़वेल्ट राष्ट्रपति चुने गए थे। उन्होंने संसद से डील लॉज़ बनवाए कि अर्थव्यवस्था को स्टेबल रखें, लेकिन न्यायपालिका ने उनको रद्द कर दिया और बार-बार उसने ऐसा किया। उस समय अमरीका के राष्ट्रपति, फ्रेंक्लिन डी. रूज़वेल्ट को गुस्से में यह कहना पड़ा कि अगर न्यायपालिका इसी तरह से काम करेगी, तो हम न्यायपालिका को अपने लोगों से पैक कर देंगे, भर देंगे। हालांकि कभी ऐसा हुआ नहीं, लेकिन अमरीका के राष्ट्रपति के उस बयान के बाद, 1936 से लेकर आज तक अमरीका में फिर कभी भी यह नौबत नहीं आई कि न्यायपालिका ने राष्ट्रपति या एग्ज़ीक्यूटिव से लड़ने या झगड़ने की कोई कोशिश की हो। वहां ऐसा फिर कभी नहीं हुआ, लेकिन यहां पर ऐसा हर रोज़ होता रहता है। यहां पर हर रोज हम दब जाते हैं।

डेमोक्रेसी में जनता की कलेक्टिव विल को संसद रिप्रेज़ेंट करती है। संविधान ने अंततोगत्वा हमारी विधायिका को यह बताया है, चाहे इस पर जितनी भी बहसें हुई हों कि कौन सर्वोच्च है, कौन नहीं है। यहां मैं इसका एक उदाहरण बताना चाहता हूं, उत्तर प्रदेश असेंबली में एक बहुत महत्वपूर्ण केस हुआ था, जहां केशव सिंह नाम के एक लड़के ने पर्चा फेंक दिया था और उसको गिरफ्तार कर लिया गया। विधान सभा ने उस लड़के को चार-पाँच दिन की सजा दे दी और जनरल वारंट के तहत उसको जेल भेज दिया गया। दो दिन बाद, एक वकील साहब थे, जो उसको जमानत पर लखनऊ हाई कोर्ट से छुड़वा लाए। उस समय उत्तर प्रदेश विधान सभा सेशन में चल रही थी। विधान सभा ने तुरन्त कोर्ट का रूप लिया और वारंट जारी करके लखनऊ के डिस्ट्रिक्ट मेजिस्ट्रेट और एसएसपी को यह आदेश दिया कि आप उस जज और उस वकील को गिरफ्तार करके सदन के सामने लाइए। चूंकि यह मामला लखनऊ बैंच का था, इसलिए वह जज इलाहाबाद हाई कोर्ट चले गए, वहां से डिवीज़न बैंच ने उनको एंटिसिपेट्री बेल दे दी। जब इलाहाबाद हाई कोर्ट ने उनको एंटिसिपेट्री बेल दे दी, तो उत्तर प्रदेश असेंबली ने यह कहा कि इन दोनों जजों को और दोनों वकीलों को गिरफ्तार करके सदन के सामने लाया जाए। इस स्थिति में स्वयं राष्ट्रपति को बीच में आना पड़ा। जब राष्ट्रपति ने यह देखा कि न्यायपालिका और विधायिका का झगड़ा शुरू हो गया है, तो राष्ट्रपति महोदय ने यह मामला सुप्रीम कोर्ट में न्याय के लिए भेज दिया। सुप्रीम कोर्ट ने उस वक्त कहा कि हां, यह ठीक है कि जमानत दे सकते हैं, इसके बाद भी इलाहाबाद हाई कोर्ट में वह मामला चलता रहा। जब इस केस का फैसला आया, तो इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक ऐतिहासिक जजमेंट दिया, जोकेशव सिंह केस में अब भी देखा जा सकता है कि एक बार जब विधायिका जनरल कोर्ट का रूप ले लेती है और जनरल वारंट के तहत किसी को सजा दे देती है, तो उसकी अपील सुनने का अधिकार हिन्दुस्तान के किसी भी न्यायालय को नहीं है। इस जजमेंट का नतीजा यह हुआ कि केशव सिंह को, जिसका केवल एक दिन का समय रह गया था, कई साल बाद दोबारा गिरफ्तार करके लाया गया और जेल भेजा गया।

इस तरह कोर्ट ने स्वयं यह स्वीकार किया है कि विधायिका इतनी ताकतवर है, लेकिन हमारे यहां रोज़ाना यह होता है कि हाई कोर्ट मनचाही बातें करने लगता है।

न्यायपालिका की स्वतंत्रता के लिए बहुत सारी बातें की गई थीं और उम्मीद की गई थी कि हमारी न्यायपालिका स्वतंत्र होगी, लेकिन हमने स्वयं इस तरह की स्थितियां पैदा कर दीं कि अब न्यायपालिका स्वतंत्र भी नहीं रह गई है।

(2x/psv पर जारी)

-SCH/PSV-VKK/2X/3.40

प्रो. राम गोपाल यादव (क्रमागत): यह एक मायने में स्वतंत्र है, लेकिन यह उम्मीद की गयी थी कि रिटायरमेंट के बाद कोई लाभ वाले पद पर उनको नहीं भेजा जाना चाहिए, वरना लालच में फिर जजेज़ फैसले देने लगेंगे। अब होने क्या लगा है? फलां कमिशन का चेयरमैन जज होगा, मानवाधिकार आयोग का चेयरमैन जज होगा, नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल का चेयरमैन जज होगा, प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया का चेयरमैन जज होगा। यानी जितने कमिशंस हैं, सबके चेयरमैन जज होंगे। क्या जरूरी है कि ये जज ही हों? हरेक का यही हाल है, कोई बचा नहीं है। इससे होता क्या है? बहुत सारे जजेज़ ऐसे होते हैं, जिनके मन में यह लालच होता है कि अगर हम गवर्नमेंट के अनुसार फैसला देंगे, तो हो सकता है कि रिटायरमेंट के बाद हम किसी कमिशन के चेयरमैन बना दिए जायें। यहाँ तो आप समझ लीजिए कि जो पोलिटिकल साइंस का स्टूडेंट होते हुए मैंने कभी नहीं सोचा था, सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड चीफ जस्टिस रंगनाथ मिश्रा साहब को ये कांग्रेस के लोग राज्य सभा में ले आये थे। उस वक्त इसी हाउस में मैं भी मेम्बर था। अब वे गवर्नर बने। तो जब ये चीज़ें होने लगेंगी, तो न्यायपालिका की स्वतंत्रता कहाँ रहेगी? ...(समय की घंटी)... माननीय मंत्री जी, एग्जिक्यूटिव की कमजोरी की वजह से न्यायपालिका निरंकुश भी होती जा रही है और लालच की वजह से उसकी स्वतंत्रता पर भी असर पड़ रहा है। आपको इन चीज़ों को ध्यान में रखना पड़ेगा।

जब अप्वायंटमेंट्स होते हैं, तो मेरा आपसे एक अनुरोध है कि इस देश की बहुत बड़ी आबादी ओबीसी और एससी/एसटी की है। कई बार तो इनमें से एक आदमी भी नहीं होता है। एक चीफ जस्टिस होकर रिटायर हुए, वे तब बने, जब हिन्दुस्तान के एक राष्ट्रपति ने फाइल पर यह कह कर दस्तखत करने से मना कर दिया कि आप शैड्यूल्ड कास्ट के कम से कम एक आदमी का नाम इसमें लाइए। जब नारायणन साहब ने उस फाइल पर दस्तखत करने से मना कर दिया, तब एक जज ऐसे हुए, बालकृष्णन साहब, जो चीफ जस्टिस बन कर रिटायर हुए। तो इस कम्युनिटी का कोई जज नहीं है। एक और चीज़ है। आप ज़रा इतिहास मँगाकर देख लीजिए। कितने सुप्रीम कोर्ट के जजेज़ के लड़के जज हैं, हाई कोर्ट के जजेज़ के लड़के और रिश्तेदार जज हैं। अगर किसी नेता का लड़का नेता बन गया, तो आलोचना होने लगती है या वह किसी पद पर पहुँच जाए, तो आलोचना होने लगती है। हमारे यहाँ, इलाहाबाद हाई कोर्ट में तो हर बार अप्वायंटमेंट होता है, तो कोई ऐसा बंच नहीं है, जिसमें कुछ न कुछ ऐसे नाम न हों, जो किसी जज के लड़के, दामाद या रिश्तेदार आदि न हों। ...(समय की घंटी)... आज यह स्थिति है।



श्रीमन्, यह बहुत आवश्यक है कि लोगों को सस्ता न्याय मिले, सही न्याय मिले। आज जजमेंट रिजर्व हो जाता है। मान्यवर, जजमेंट रिजर्व हो जाता है, उसकी कोई समय सीमा नहीं है। छ: महीने में सुनायें या एक साल से अपने पास जजमेंट रखे हुए हैं। लोग कहते हैं कि साहब, इसके लिए कोई कानून ही नहीं है और जब तक चाहे, तब तक जजमेंट रिजर्व रखे रहते हैं। मैं किसी की आलोचना की दृष्टि से यह नहीं कह रहा हूँ। जब मैं यह कहने जा रहा हूँ, तो इसका मतलब यह भी नहीं है कि ज्यूडिशियरी या न्यायपालिका में ईमानदार लोग नहीं होते। वहाँ एक से एक ईमानदार लोग होते हैं। लेकिन, लम्बे अरसे तक जब किसी फैसले को सुरक्षित रखा जाता है, सुनाया नहीं जाता है, तो दलाल घूमने लगते हैं, यह मैंने स्वयं देखा है और सुना है। कोई औचित्य नहीं है कि फैसला लम्बे

अरसे तक या छ:-: महीने तक सुरक्षित रखा जाये। क्यों सुरक्षित रखा जा रहा है? आखिर लोग क्या सोचेंगे? यह सब हो रहा है। ...(समय की घंटी)...

(2वाई/वीएनके पर जारी)

-PSV/VNK-KR/2Y/3.45

प्रो. राम गोपाल यादव (क्रमागत): सर, दूसरी बात यह है कि आज न्यायालयों में इतने बड़े पैमाने पर लंबित मुकदमे हैं। आप जरा यह पता करा लीजिए कि अपील के कितने मामले सुने जाते हैं, अपील पर फैसले कितने होते हैं। कोटा पूरा करते हैं पीआईएल पर, रिट हो गई और मैंने इतने केसेज़ किए। अपील के कितने केस सुने गए? बीस-बीस साल से केस क्यों पड़े हैं? कोई सुनने ही वाला नहीं है, कोटा पूरा कर लिया और हो गया। जब विंटर वेकेशन होती है, हमारे मिश्रा जी एडवोकेट जनरल भी रहे हैं, ये बड़े वकील हैं, बीच में जो सात-आठ दिन का गैप होता है, उन दिनों में सब जज चले जाते हैं। कोई नहीं रहता है, एक काम कोई नहीं करता है, बीच की छुट्टी ले ली और चले गए। जज कितना काम करे, कितने फैसले हुए, कितनी अपीलों को सुना गया, इसके लिए असली मेजरमेंट जो है, बैरोमीटर जो है, वह यह है कि अपील के कितने केसेज़ सुने गए और फैसले हुए। दो रिट आ गईं, पीआईएल आ गईं और कह दिया गया कि हमने पांच केसेज़ सुन लिए, लेकिन जिसमें दिमाग की जरूरत है, जिसमें पढ़ना पड़ जाएगा, सुनना पड़ेगा, कुछ करना पड़ेगा, उस तरह के केसेज़ को कोई सुनता ही नहीं है। उन पर डेट्स पड़ती रहती हैं और इस तरह से क्लाइंट मरता रहता है।

अगर आपको गरीब आदमी को राहत देनी है, सस्ता न्याय दिलाना है, तो यह निश्चित करना पड़ेगा कि लोगों को जल्दी न्याय मिले। आज गरीब आदमी को न्याय नहीं मिल पा रहा है। गरीब आदमी कोर्ट जा ही नहीं पाता है। अगर उसके पास पैसा हो, वकील कर सकता हो, तो वह अपनी जान बचा सकता है। चूंकि उसके पास पैसा नहीं होता है, इसलिए उनकी जान भी चली जाती है। हम तमाम ऐसे मामले जानते हैं, जिनमें झूठे केसेज़ में 302 में लोगों को फंसाया गया, उनको सजा हुई, क्योंकि उनके पास पैसा नहीं था, इसलिए वे अच्छा वकील नहीं कर सकते थे। उनके केस को सही तरीके से लड़ा नहीं गया और उनको आजीवन कारावास से मृत्यु दंड तक हो गया, निर्दोष लोगों को। ...(समय की घंटी)... आपका बहुत महत्वपूर्ण मंत्रालय है, देश के सारे सिस्टम्स को प्रभावित करने वाला मंत्रालय है। लोगों को सही न्याय मिल सके, सस्ता न्याय मिल सके, यह हो जाए और संसद की तथा कार्यपालिका की गरिमा बनी रहे, हर मामले में ऐसा न लगे कि अब आपको वही करना होगा, जो ऊपर से सुप्रीम कोर्ट निर्देश दे रहा है। इस पर भी कोई न कोई अंकुश लगाने की बात करनी होगी। बहुत-बहुत धन्यवाद।



(समाप्त)

उपसभाध्यक्ष (श्री वी. पी. सिंह बदनौर): श्री के. सी. त्यागी जी, आपके आठ मिनट हैं, लेकिन आप दस मिनट तक ले सकते हैं।

श्री के. सी. त्यागी: डिप्टी चेयरमैन सर, मुझे आपसे यही आशा थी कि मेरे बोलने से पहले ही आपकी instructions आ जाएंगी। मैं उसका भी सम्मान करता हूँ।

उपसभाध्यक्ष (श्री वी. पी. सिंह बदनौर): ताकि आप उसी हिसाब से चलेंगे।

श्री के. सी. त्यागी (बिहार): उपसभाध्यक्ष महोदय, पिछली सरकार के समय सरकारी पक्ष की तरफ से बोलते हुए हमारे मित्र श्री राजीव शुक्ल ने इस पूरे सिस्टम पर बड़ी बारीकी से बहस की शुरुआत की थी और ऐसी दूसरी बानगी प्रो. राम गोपाल जी के वक्तव्य में मुझको दिखी है, जिसमें उन्होंने बुनियादी और सतही सवाल उठाने का प्रयास किया है। सदन के अंदर तो हम ये सब बातें करते हैं, बाहर जाकर इन बातों को करने की न इजाजत है और न व्यवस्था है। डा. अम्बेडकर ने अपनी शुरुआती उल्लेख में कहा था कि इसका अर्थ 'सबको न्याय और सस्ता न्याय' है। इसके अंदर सब चीजें हैं, न तो सबको न्याय है और न सस्ता न्याय है और सारा जो ठीकरा है, वह संसद के सर फोड़ा जाता है। सर, किसी अदालत में --- चूंकि हमें राजनीतिक कार्यकर्ता होने के नाते दर्जनों बार जेल जाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है ...(व्यवधान)... राजनीतिक कार्यकर्ता होने के नाते, किसी और स्कैंडल में नहीं।

(2z/DS पर जारी)

-VNK/DS-KS/3.50/2Z

श्री के.सी. त्यागी (क्रमागत): सर, जेल की हमने कई परिस्थितियाँ देखी हैं। पिछले दिनों मुझे होम मिनिस्ट्री की कंसल्टेटिव कमिटी की मीटिंग में जाने का मौका मिला। एक आदिवासी जिला सुकमा है, जहाँ 570 लोग बन्द हैं। यहाँ मध्य प्रदेश या छत्तीसगढ़ के मेरे साथी होंगे। वे 570 के 570, सारे आदिवासी हैं, उनमें से एक भी नॉन-आदिवासी नहीं है। ऐसी 70 महिलाएँ हैं, जो पिछले तीन साल से बगैर ट्रायल के ओवरलोडेड जेल में रह रही हैं। वजह पता नहीं है। सर, यूँ तो पूरे देश के सब विभागों में गड़बड़ है, लेकिन हमने जेलों के अंदर जितना बेरहमी का बर्ताव देखा है, उतना कहीं नहीं है। वहाँ पर भी प्रिविलेज़ क्लासेज़ हैं। हमने देखा है, जब पैसे वाले जेल जाते हैं, तो उनके लिए अंदर एसी है, अंदर मालिशिया है, उनके कपड़े बाहर से धुलकर आते हैं, वहाँ मोबाइल से लेकर इंफॉर्मेशन के जितने सेंटर्स हैं, वे काम कर रहे हैं। कई जगह जेलों में छापे पड़ते हैं, पता नहीं कितनी तरह की चीज़ें पकड़ी जाती हैं, और का मैं जिक्र नहीं करना चाहता। "सबको न्याय और सस्ता न्याय" यह बात कल्पना भर बनकर रह गई है।

अभी प्रो. राम गोपाल जी अंडरट्रायल का जिक्र कर रहे थे। कोर्ट ने जमानत दे दी है, लेकिन जमानत कौन भरे? दो-दो, तीन-तीन साल से और दो रुपये की चोरी में पाँच-पाँच साल से वे जेलों में पड़े हुए हैं। यह कैसा न्याय है? यह तो अन्यायिक व्यवस्था हो गई। हमने कई बार पूछा। मैं आपातकाल में मेरठ जेल में था। वहाँ सुबह के वक्त मेरे गाँव के बाजू के चार-पाँच किसान बैठे रो रहे थे। मैंने जाकर उनसे पूछा कि क्या प्रॉब्लम है? उन्होंने बताया कि साहब, हम सौ-सौ, डेढ़-डेढ़ सौ बीघे के जमींदार हैं और हम यहाँ कर्जा वसूली में लाए गए हैं और सुबह-सुबह हमारे हाथ में झाड़ू दे दिए गए। उन्होंने कहा कि साहब, हमने तो अपनी पूरी जिंदगी में यह काम नहीं किया, वे रो भी रहे थे और झाड़ू भी लगा रहे थे। वहाँ काम करने का ऐसा तरीका था और अथक भ्रष्टाचार था। क्या देश की ऐसी कोई जेल है, जहाँ एक मुलाकात बगैर भ्रष्टाचार के हो जाए? उस समय जेल में हम लोग तरसते थे कि कोई मुलाकाती मिलने आए। आपातकाल में तो वैसे भी डर की वजह से घर वाले भी छोड़कर चले गए कि पता नहीं ये वहाँ से आएँगे कि नहीं आएँगे। अन्तोनी साहब की पार्टी ने आपातकाल में ऐसी दुर्गति कर दी कि कई लोगों को उनकी बीवियाँ छोड़कर चली गईं कि ये नहीं लौटेंगे। "टाडा" के अंदर भी यही हुआ। जब हम समाजवादी पार्टी में थे, तब हम लोगों ने मुम्बई के "टाडा" के मुकदमे उठाए थे। उनमें 99 परसेंट मुस्लिम्स थे और हमें मुम्बई शहर के अंदर ऐसे दो दर्जन से ज्यादा किस्से मिले कि "टाडा" का मुजरिम जेल से 20 साल के बाद आएगा और उसकी बीवी ने किसी दूसरे आदमी से शादी कर ली। उसके पति ने अपनी बीवी से कह दिया कि मैं लौटकर नहीं आऊँगा, "टाडा" लगा हुआ है। उसने जेल से ही तलाक दे दिया, जिसके बाद उसने कहीं और शादी कर ली।



सर, मैं यह कहना चाहता हूँ कि अब तो कोई भी होली बुक नहीं रही, हम लोगों पर तमाम तरह के इलजाम लगते हैं। अब तो जजों पर भी यौन शोषण के इलजाम लग रहे हैं, वे भी कोई होली ग्रन्थ तो बचे नहीं। अभी लोक सभा के 60 एमपीज़ ने यह लिखकर दिया है कि किस तरह से एक जज ने एक महिला ट्रेनी के साथ किस तरह का दुर्व्यवहार किया। अभी ऑनरेरी चेयरमैन साहब ने उसको लुक आफ्टर करने के लिए कमिटी बनाई है। वहाँ पर पुलिस कस्टडी से लेकर जेल जाने तक महिलाओं का बहुत निर्मम शोषण है। सर, मैं यह कहना चाहता हूँ कि एक ताजा उदाहरण, जिसका जिक्र राम गोपाल जी कर रहे थे, यह बहुत भयानक है। राजीव शुक्ल जी को पिछली बार दिया गया अपना वक्तव्य शायद याद हो, इन्होंने सारे सवाल उठाए थे। सर, इन्होंने arbitration का सवाल उठाया था। Arbitration यहाँ नहीं होता है। हमारी तो कमिटी की मीटिंग के लिए भी अभी डिप्टी स्पीकर साहब ने मना कर दिया कि बाहर नहीं जाते, arbitration cases जेनेवा में होते हैं। चूंकि यहाँ गरमी रहती है, तो यहाँ arbitration नहीं हो सकता। Arbitration के लिए जो जज जाते हैं, उनके लिए एक करोड़ रुपये से लेकर पाँच करोड़ रुपये तक के पैकेजेज़ हैं। पार्लियामेंट की कमिटी कहीं जाएगी, तो उसके लिए 10 तरह की इंस्ट्रक्शंस हैं कि no five stars hotels, etc., लेकिन इनके arbitrations के लिए कोई restriction नहीं है। जेनेवा, लंदन के अलावा कहीं और इनके arbitrations नहीं होते।

(3/केएलजी पर जारी)

KLG-VK/3A/3.55

श्री के. सी. त्यागी (क्रमागत): दूसरा, काफी दिन पहले एक मांग उठी थी। जब भैरो सिंह शेखावत जी आपके स्थान पर सुशोभित थे, तो एक एंटी-करप्शन का विषय हम लेकर आए थे। मैं अपने सभी माननीय सदस्यों से कहना चाहता हूँ, यह एक नॉन-पार्टी इश्यू है कि सुप्रीम कोर्ट के और हाई कोर्ट के जितने भी रिटायर्ड जस्टिस हैं, उन सबकी जांच के लिए एक कमेटी बननी चाहिए। हमारे लिए तो बड़ी कमेटी बन रही है। इस राज्य सभा के चार एम.पी. दस-दस हजार रुपए के मामले में अपनी मेम्बरी खो बैठे। बुलंद शहर का मेरा एक साथी भारतीय जनता पार्टी से था, प्रो. छत्रपाल सिंह, वह हमारे साथ कभी लोक दल में था। एक सवाल पूछने के दस हजार रुपए के इलजाम में उसकी मेम्बरी चली गई।

सर, मैं एक रिटायर्ड चीफ जस्टिस को जानता हूँ, जिसके मकान के बाहर बेटे का प्रॉपर्टी डीलर का बोर्ड लगा हुआ था कि फलां सिंह, सन ऑफ श्री जस्टिस फलां सिंह, रियल इस्टेट कंसलटेंट। उसको कैसे इजाजत मिल गई? उसके असेट्स की जानकारी आप लीजिए। कभी मुझे उसके घर के बाहर से गुजरने का मौका मिला, तो मैंने वह बोर्ड देखा और इसी शहर के अंदर जो पांच सौ करोड़ रुपए की कोठी है, उसने बहुत सस्ते दामों में ले ली। उसके बाप ने उसके साथ कुछ अच्छा काम किया होगा।



उपसभाध्यक्ष (श्री वी.पी.सिंह बदनौर): ऐसे सिंह तो नहीं होते हैं।

श्री नरेश अग्रवाल: आप बदनौर नहीं कह रहे हैं, सिंह कह रहे हैं।

श्री के. सी. त्यागी: सर, आप तो हुकुम हैं। हुकुम को कौन हुक्म दे सकता है? राजस्थान में हम आप लोगों को 'हुकुम' बोलते हैं। बड़े हुकुम हमारे भैरों सिंह जी थे, उनके बाद जसवंत सिंह जी थे, आज आप हमारे हुकुम हैं। यह हुकुम की परंपरा जो है, चली आ रही है, लेकिन आपके बारे में एक अच्छी बात यह है, जो शायद सदन के कई सदस्यों को मालूम नहीं होगी, कि आप मीरा के परिवार से हैं, यानी जो रघुवंशी परंपरा थी उसको छोड़कर भक्ति युग की परंपरा मीरा से शुरू होती है।

उपसभाध्यक्ष (श्री वी.पी. सिंह बदनौर): आप सब्जेक्ट पर आइए।

श्री के. सी. त्यागी: सर, हम और नरेश जी किसी भी सब्जेक्ट पर आ जाते हैं। हमारे ऊपर और नरेश अग्रवाल जी के ऊपर कोई सीमा नहीं लग सकती है। हम एक विषय पर बोलते-बोलते दूसरे विषय पर जा सकते हैं। सर, यह डायवर्जन तो आप ही ने किया है, मैं माफी चाहता हूँ।

उपसभाध्यक्ष (श्री वी. पी. सिंह): दो मिनट कम नहीं होते।

श्री के. सी. त्यागी: सर, मेरी बात खत्म हो गई है, मेरा जो थीम था खत्म हो गया। अब मैं दो-तीन चीजों के साथ अपनी बात खत्म करना चाहता हूँ। एक तो इस सिस्टम को पार्लियामेंट अपने हाथ में ले। जुडिशियरी की इंडिपेंडेसी इतनी हो कि कोई पॉलिटिकल लीडर सिफारिश करे कि अमुक को छोड़ दीजिए, मुक्त कर दीजिए, तो उसके पक्ष में कोई भी पार्लियामेंटेरियन नहीं है। कोई जज, जिसका जिक्र प्रो. राम गोपाल जी ने भी किया था, यानी सुप्रीम कोर्ट का रिटायर्ड जज, जिसने संविधान के प्रति कसम खाई है, वह महात्मा गांधी के बारे में ऐसी बात कह जाए। क्या ऐसा किसी मुल्क में संभव है? सिर्फ इसी मुल्क में यह संभव है। क्या आप चीन में माओ-त्से-तुंग के बारे में, पाकिस्तान में मोहम्मद अली जिन्ना के बारे में, हनोई में हो ची मिन्ह के बारे में या किसी और मुल्क में जो वहां का राष्ट्रपिता हो, उसके बारे में ऐसी बात कह सकते हैं? वह साहब प्रेस कॉउन्सिल में भी हैं, उन्होंने गांधी जी को गाली दी है और कभी मोहब्बत में हमारे घर वाले मित्र विश्वनाथ जी, that he was a fit case for some commission.

श्री नरेश अग्रवाल: प्रेस कॉउन्सिल में किसने बनवाया था?

श्री के. सी. त्यागी: वह भी आपके मित्र ही रहे होंगे। मैं यह कहना चाहता हूँ कि इस क्षेत्र में भी बहुत सारी बीमारियां हैं और जब सारा समाज खराब है, तो आप जुडिशियरी को कैसे होली, गीता, कुरान मान सकते हैं? वे जमाने चले गए, जब जगमोहन लाल सिन्हा जी थे, जिन्होंने मिसेज गांधी के खिलाफ मुकदमे में न सिर्फ उन्हें डिसक्वालिफाइड किया, बल्कि छह साल के लिए चुनाव लड़ने पर रोक भी लगा दी। क्या आज किसी जज से ऐसी उम्मीद की जा सकती है? सर, हमारी हाउस कमेटी के आजकल जैसे आप सदर हैं, मैं लोक सभा की कमेटी का मेम्बर था, एक जज साहब की यह भी सिफारिश थी कि मुझे बड़ा मकान मिलना चाहिए। हमें मिल जाएगा, तो हमारा तो कैन्सिल कराने पर लग जाएंगे। आपके बारे में भी शिकायतें आ रही हैं कि आप अच्छे मकान नहीं दे रहे हैं। जया जी भी बैठी हैं, इनकी भी शिकायत है कि इनको अच्छा मकान नहीं मिल रहा। तो मेरा इतना कहना है कि इन सारे मामलों पर जिस तरह का एटीट्यूड जुडिशियरी का है, जितना भ्रष्टाचार वहां पर है, उसे देखना होगा। अपनी बात खत्म करने से पहले मेरा एक निवेदन है, मेरे बहुत बढ़िया मित्र हैं अरुण जेटली जी, रविशंकर प्रसाद जी छोटे भाई हैं, गौडा जी आए हैं, कोई नहीं बचा, जिसको मैंने अपनी तकलीफ न बताई हो।

(3बी/आरपीएम-आरजी पर जारी)


-KLG/RPM-RG/4.00/3B

श्री के.सी. त्यागी (क्रमागत) : उपसभाध्यक्ष महोदय, मैं सिर्फ एक लाइन में खत्म कर रहा हूं। गाजियाबाद से नई दिल्ली 20 किलोमीटर है और सहारनपुर से 70 किलोमीटर है। दिल्ली से नैनीताल 270 किलोमीटर, चंडीगढ़ 275, जयपुर 280, ग्वालियर 300, शिमला 370, इलाहाबाद 700 और लाहौर 410 किलोमीटर दूर है। इस प्रकार, सर, हम पश्चिमी यू.पी. के लोगों के साथ इतनी बड़ी ज्यादती हो रही है। यह कैसा सबका न्याय और कैसा सस्ता न्याय है? क्यों नहीं आप पूरे एन.सी.आर. का एक कोर्ट बनाते हैं? ...(व्यवधान)... लाहौर में चले जाएं, तो और भी अच्छा है। हम तो अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं को लांघने वाले लोग हैं। हमारे लिए पाकिस्तान, नेपाल, बांग्लादेश आदि सब एक जैसे देश हैं। गौड़ा साहब, मैं आपसे रिक्वैस्ट करूंगा और मैंने चिट्ठी भी लिखी थी और आपने उसका टैक्नीकल जवाब दिया है। अब हम गांव के लोग भी इतना जान गए हैं कि जब राज्यों के री-ऑर्गेनाइजेशन होते हैं, तब इस तरह की जरूरत पड़ती है, जिस प्रकार का आपने मेरी चिट्ठी का जवाब भेजा है।

महोदय, अभी तेलंगाना और आंध्र प्रदेश का बंटवारा हुआ है। दोनों राज्यों के अलग-अलग कोर्ट हैं और हैदराबाद की भी अलग कोर्ट होगी। एक राज्य में तीन-तीन कोर्ट और वैस्टर्न यू.पी. की 6 करोड़ की आबादी के लिए एक भी कोर्ट नहीं है। इलाहाबाद हाई कोर्ट में 8 लाख केस पेंडिंग हैं। जजों की नियुक्तियां हैं, लेकिन उसकी बिल्डिंग ही एक्सपेंशन को अलाऊ नहीं करती है। इसलिए इस विषय पर बैठकर तरीके से सोचिए। इस विषय में डॉग्मैटिक मत बनिए। इसलिए सबका न्याय हो, सस्ता न्याय हो, इसे आगे बढ़ाने के लिए पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हाई कोर्ट की एक बैंच शीघ्र स्थापित कीजिए।

महोदय, अब तो हर चीज के पी.आई.एल. में फैसले हो रहे हैं। हम खद्दर पहनें कि नहीं, यह भी कोर्ट तय करेगी। प्याऊ कहां लगेगी, यह भी कोर्ट तय करेगी। इसमें हमारा भी निकम्मापन है। अगर इन सारी व्यवस्थाओं को हमने दुरुस्त किया होता, तो अदालत आज हमारे सामने यह काम नहीं करती। उसके बढ़ते हुए इंटरवेंशन को रोकिए, वरना एक दिन पूरे देश में जुडिशियरी का ही राज हो जाएगा और वही तय करेगी कि क्या करना है। ... (व्यवधान)... सबका साथ, सबका विकास, 14-15 परसेंट लोगों को छोड़कर, मैं आपसे डिसएग्री करता हूं।

महोदय, मैं अपनी बात समाप्त करते हुए, पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हाई कोर्ट की एक बैंच खोलने के लिए विशेष तौर से गौड़ा साहब से निवेदन करता हूं। मैं निजी बात को यहां कोट नहीं करना चाहता हूं। जेटली साहब, खुद मानते हैं कि पश्चिमी यू.पी. के लोगों के साथ ज्यादती हो रही है। जब ये सारी चीजें आएं, तो मैं चाहता हूं कि हाइकोर्ट की एक बैंच इलाहाबाद में है, एक लखनऊ में है, इनके साथ एक गाजियाबाद या आगरा में भी बना दीजिए। मैं कोई ऐसा टिपीकल गाजियाबाद या मेरठ वाला नहीं हूं जो यह कहूं कि गाजियाबाद या मेरठ में ही बननी चाहिए। मेरा यही निवेदन है कि पश्चिमी यू.पी. में भी उसकी एक शाखा खोलिए, ताकि सबका न्याय और सस्ता मिल सके, बहुत-बहुत धन्यवाद।

(समाप्त)



Download 1.86 Mb.

Share with your friends:
1   ...   5   6   7   8   9   10   11   12   ...   16




The database is protected by copyright ©sckool.org 2022
send message

    Main page